Copyright Claim और Copyright Strike क्या है? कैसे हटाएं

अगर आपका कोई यूट्यूब चैनल है या फिर आप अपना एक यूट्यूब चैनल बनाने के बारे में सोच रहे हैं। तो आपको यूट्यूब के Copyright Claim और Copyright Strike के बारे में जानना जरूरी है। 


अगर आप यूट्यूब में अपना करियर बनाना चाहते हैं, या फिर यूट्यूब से अच्छी earning करना चाहते हैं। तो आपको इन दो चीजों के बारे में जानना बहुत जरूरी है। तभी आप यूट्यूब में अच्छी तरह से ग्रो कर सकते हैं।

Copyright Claim aur Copyright Strike kya hai


इस आर्टिकल में हम Copyright Claim और Copyright Strike क्या है? कैसे हटाएं? के बारे में जानेंगे। इसके साथ-साथ इन दोनों में क्या फर्क है? किससे हमारे यूट्यूब चैनल को नुकसान होता है? और किससे नहीं? आदि सभी के बारे में हम आपको इस आर्टिकल में बताने वाले हैं।


लेकिन सबसे पहले यह जान लेते हैं कि आखिर कॉपीराइट क्या होता है?


कॉपीराइट क्या होता है? (Copyright in Hindi)

कॉपीराइट का मतलब अधिकार होता है। यह एक कानूनी अवधारणा है। जो किसी मूल कार्य के लेखक, निर्माता (creator) को उसके द्वारा किए गए कार्यों के साथ कुछ चीजें करने का एक प्रकार से विशेष अधिकार प्राप्त होता है।


जो भी किसी मूल कार्य का कार्यकर्ता या यूं कहें कि कॉपीराइट धारक होता है। उसे यह चुनने का अधिकार होता है कि उसके द्वारा किए गए कामों को कोई अन्य उपयोग में ला सकता है या नहीं। उसके बनाए गए कंटेंट को कोई अन्य  पुनर्विक्रय या इस्तेमाल कर सकता है या नहीं। कॉपीराइट धारक अपने द्वारा किए गए कार्यों के लिए श्रेय पाने का अधिकार रखता है।


इसे एक उदाहरण से समझते हैं। अगर आप कोई म्यूजिक, वीडियो, सॉन्ग, फोटोग्राफ आदि बनाते हैं। तो आपके द्वारा बनाए गए कंटेंट पर आपका अधिकार होता है क्योंकि आप ही उस कंटेंट के मूल निर्माता है, मूल कॉपीराइट धारक है।


ऐसे में अगर कोई आपके द्वारा बनाए गए कंटेंट को बिना आपकी इजाजत के इस्तेमाल करता है।  तो यह कॉपीराइट होता है क्योंकि आपके बनाए गए कंटेंट पर आपका, सिर्फ आपका अधिकार होता है। ऐसे में जो आपके कंटेंट को यूज करता है। उस पर आप लीगल कार्यवाही कर सकते हैं। इसे ही कॉपीराइट कहा जाता है।


यूट्यूब में भी कॉपीराइट के नियम है। जो कि हर यूट्यूबर को पता होनी चाहिए। यूट्यूब पर दो प्रकार के कॉपीराइट होते हैं। पहला कॉपीराइट क्लेम और दूसरा कॉपीराइट स्ट्राइक। आइए सबसे पहले हम कॉपीराइट क्लेम के बारे में जानते हैं।


Copyright Claim kya hai


कॉपीराइट क्लेम क्या है? (Copyright Claim on YouTube in Hindi)

अगर आप यूट्यूब पर किसी दूसरे व्यक्ति के द्वारा बनाए गए कंटेंट जैसे कि सोंग्स, म्यूजिक, फोटोग्राफ, वीडियो आदि को बिना उसकी इजाजत के यूज करते हैं। तो आपके चैनल पर कॉपीराइट क्लेम आती है। कॉपीराइट क्लेम सामान्यता ऐसे कंटेंट को अपने चैनल पर पोस्ट करने से आती है। जिस पर की एक कंटेंट आईडी प्राप्त हुई रहती है।


अगर आप किसी ऐसे कंटेंट को अपने यूट्यूब चैनल पर अपलोड कर रहे हैं। जिस पर की यूट्यूब ने उसे कंटेंट आईडी दी हुई है। तो यूट्यूब का एल्गोरिथम आपके द्वारा अपलोड की हुई कंटेंट को स्कैन कर उस पर तुरंत कॉपीराइट क्लेम भेज देता है। क्लेम सामान्यता बड़े-बड़े यूट्यूब चैनल के कंटेंट को यूज करने से होता है।



कॉपीराइट क्लेम कैसे हटाएं?

अगर आपके यूट्यूब चैनल पर कोई कॉपीराइट क्लेम आता है। तो आप घबराएं नहीं। वह इसलिए क्योंकि इससे आपके यूट्यूब चैनल पर कोई फर्क नहीं पड़ता है। और ना ही आपकी चैनल डिलीट होती है। अगर आपके चैनल पर किसी वीडियो के लिए यह क्लेम आता है। तो आप उस वीडियो को monetise नहीं कर सकते हैं।


अगर किसी प्रकार से वह वीडियो मोनेटाइज भी होता है। तो उस कॉपीराइट क्लेम आए हुए वीडियो का रेवेन्यू शेयर हो जाता है। यह रेवेन्यू उस व्यक्ति या चैनल के पास चला जाता है। जिसका कि आपने कंटेंट को अपने चैनल पर बिना उस व्यक्ति के परमिशन के यूज किया हो।


अगर आप एक नए यूट्यूबर हैं। और आपके चैनल पर 1000 सब्सक्राइबर्स के साथ 4000 का वॉचटाइम भी पूरा हो चुका है। तो आप अपने चैनल को मोनेटाइज करने से पहले यह चेक कर ले कि आपके चैनल के किसी वीडियो पर कोई कॉपीराइट क्लेम तो नहीं आया है।


अगर आप कॉपीराइट क्लेम वाली वीडियोज (content) के साथ अपने चैनल को मोनेटाइजेशन के लिए भेज रहे हैं। तो ऐसे में आपका मोनेटाइजेशन रिजेक्ट भी हो सकता है।


नीचे कुछ पॉइंट्स दिए गए हैं। जिसकी मदद से आप इसे ठीक कर सकते हैं।


जिस भी वीडियो के लिए कॉपीराइट क्लेम आया हो, उस वीडियो को चेक करें कि आखिर कॉपीराइट किस ऑडियो, वीडियो, इमेजेस आदि को यूज करने से आया है।


अगर कॉपीराइट किसी वीडियो फुटेज को यूज करने से आया हो। तो आप वीडियो फुटेज के उस भाग को trim या cut करें। जो कि कॉपीराइटेड है।


वहीं अगर यह किसी ऑडियो को यूज करने से आया हो। तो आप या तो वह ऑडियो चेंज करें, या फिर उस ऑडियो को म्यूट भी कर सकते हैं।


अगर कॉपीराइट क्लेम या स्ट्राइक पूरे वीडियो के लिए आया हो। तो बेहतर होगा कि आप उस वीडियो को ही अपने यूट्यूब चैनल से डिलीट कर दें।


आप जिसका भी कंटेंट अपने वीडियो अपने चैनल में यूज किया हो। उससे रिक्वेस्ट करें कि वह अपनी क्लेम या स्ट्राइक वापस ले लें। इसकी कोई गारंटी नहीं है कि ऑनर कॉपीराइट वापस लेगा ही लेगा। हालांकि आप एक बार कोशिश जरूर करें। रिक्वेस्ट करने पर बहुत से यूट्यूबर मान जाते हैं। और अपनी क्लेम या स्ट्राइक वापस ले लेते हैं।



कॉपीराइट क्लेम से कैसे बचें?

जितना ज्यादा हो सके अपने यूट्यूब चैनल पर ऐसे कंटेंट को यूज करें। जो कि कॉपीराइट फ्री हो। जिस कंटेंट को कमर्शियल और नन-कमर्शियल यूज़ के लिए इस्तेमाल में लाया जा सकता हो। जिसे एडिट करके यूज़ कर सकते हों


इंटरनेट पर बहुत सारी वेबसाइट्स हैं। जहां से आप अपने यूट्यूब चैनल या किसी अन्य प्लेटफॉर्म (जैसे फेसबुक, इंस्टाग्राम, Linkedin आदि) के वीडियोज के लिए कॉपीराइट फ्री वीडियोस, इमेजेस, म्यूजिक, ग्राफिक आदि को फ्री में यूज कर सकते हैं। वह भी बिना किसी watermark और बिना किसी को कोई attribution दिए हुए।


इनमें Pexels, pixabay, coverr, free nature stock आदि ऐसी साइट्स हैं। जहां से आप बिना किसी attribution के वीडियोज, इमेजेस, ग्राफिक, म्यूजिक आदि को फ्री में डाउनलोड करने के साथ-साथ उन्हें अपने according एडिट करके यूज भी कर सकते हैं।


आप अपने वीडियोज के म्यूजिक के लिए यूट्यूब के ही अपने Youtube Music Library का यूज कर सकते हैं।


Youtube Music Library में आपको अपने कंटेंट के according कॉपीराइट फ्री म्यूजिक मिल जाती है। जिसे कि आप यूज कर सकते हैं। हालांकि यहां कुछ म्यूजिक कॉपीराइटेड भी हैं। जिन्हें कि आप अपने वीडियोज, वीडियोज के डिस्क्रिप्शन में क्रेडिट देकर यूज कर सकते हैं।


अगर आप किसी ऐसे कंटेंट क्रिएटर के कंटेंट को यूज कर रहे हैं। जो कॉपीराइटेड है। तो सबसे पहले उस क्रिएटर से परमिशन लें। चाहे आप उसके चैनल का नाम, वेबसाइट आदि का यूआरएल अपने डिस्क्रिप्शन या वीडियोज में जरूर दें।


अगर आप education, news reporting, teaching, research, scholarship आदि से रिलेटेड कंटेंट बनाते हैं। तब आप किसी भी क्रिएटर के कंटेंट के थोड़े से भाग को यूज कर सकते हैं। यह Fair Use Policy के अंतर्गत आता है।


Fair Use में आप क्रिएटर के कंटेंट को ज्यों के त्यों ही ना यूज़ करें। आप उसमें अपनी कोई वैल्यू जोड़ें। आप उसे edit, modify, cut, effects आदि को यूज करें। इससे वीडियोज में कॉपीराइट आने के चांसेस बहुत हद तक कम हो जाती है।


Copyright Claim Disclaimer for YouTube videos:

Some content are used for educational purpose under fair use. Copyright Disclaimer Under Section 107 of the Copyright Act 1976, allowance is made for "fair use" for purposes such as criticism, comment, news reporting, teaching, scholarship and research. Fair use is permitted by copyright statutes that might otherwise be infringing. Nonprofit, educational or personal use tips the balance in favour of fair use. All credits for copyright material used in videos goes to the respected owner.


हमने अभी तक कॉपीराइट क्लेम से जुड़े तथ्यों के बारे में जाना कि आखिर कॉपीराइट क्लेम क्या है? और इसे कैसे हटाएं? इसके साथ-साथ हमने इससे बचने के बारे में और कॉपीराइट फ्री कंटेंट कहां से डाउनलोड करें के बारे में जाना


आइए अब हम कॉपीराइट स्ट्राइक के बारे में जानते हैं। इसके साथ-साथ इससे बचने के उपायों के बारे में जानते हैं


Copyright Strike kya hai


कॉपीराइट स्ट्राइक क्या है? (Copyright Strike on YouTube in Hindi)

कॉपीराइट स्ट्राइक किसी चैनल पर तब आती है। जब चैनल का ऑनर किसी दूसरे के कंटेंट को बिना उसकी इजाजत के अपलोड कर देता है। जिसका कि उसे किसी भी प्रकार से उस कंटेंट को यूज करने का अधिकार प्राप्त नहीं होता है।


ऐसे में जो मूल कंटेंट क्रिएटर होता है। जिसका कि कंटेंट बिना उसकी इजाजत के किसी यूटयूब चैनल पर अपलोड कर दी जाती है। तो ऐसे में वह कंटेंट क्रिएटर अपने उस वीडियो के लिए उस चैनल पर एक कॉपीराइट स्ट्राइक भेज देता है। इससे वह वीडियो यूट्यूब से डिलीट हो जाती है।


कॉपीराइट स्ट्राइक किसी चैनल पर मैनुअली भेजा जाता है। इसमें जो मूल कंटेंट क्रिएटर होता है। जो कॉपीराइट होल्डर होता है। उसे यह पूरा अधिकार प्राप्त रहता है कि उसके द्वारा बनाए गए कंटेंट को किसी दूसरे के द्वारा यूज करने पर उसे पूरे यूट्यूब से डिलीट करा सके। स्ट्राइक से कोई सा भी यूट्यूब चैनल बहुत ही ज्यादा अफेक्ट होती है।


कॉपीराइट स्ट्राइक से हमें हमेशा सावधान रहना चाहिए। क्योंकि इससे हमारी रेवेन्यू और चैनल तो अफेक्ट करती ही है। इसके साथ-साथ इससे कई बार तो चैनल ही हमेशा के लिए पूरे यूट्यूब प्लेटफॉर्म से डिलीट कर दिया जाता है। फिर चाहे वह चैनल कितना ही बड़ा क्यों ना हो। हमें इसे कॉपीराइट क्लेम की तरह हल्के में नहीं लेना चाहिए।



कॉपीराइट स्ट्राइक कैसे हटाएं?

अगर आपके यूट्यूब के किसी वीडियो पर कॉपीराइट स्ट्राइक आए। तो सबसे पहले आप स्ट्राइक भेजने वाले से संपर्क करने की कोशिश करें। आप उनके चैनल, ब्लॉग, वेबसाइट, सोशल मीडिया आदि पर दिए हुए कांटेक्ट डिटेल्स की मदद से उनसे संपर्क कर उनसे स्ट्राइक हटाने के लिए मेल कर सकते हैं, उनसे रिक्वेस्ट कर सकते हैं।


जैसे ही पहला स्ट्राइक आपके चैनल पर आए। आप सतर्क हो जाएं। और अपने चैनल के वीडियोज को चेक करें। और देखें कि क्या आपने कोई दूसरी किसी वीडियो में कोई कॉपीराइट वीडियो, म्यूजिक आदि को तो यूज़ नहीं किया है


कॉपीराइट स्ट्राइक किसी चैनल पर 90 दिनों के लिए वैलिड रहता है। अगर आप इन 90 दिनों के अंदर अपने चैनल से कॉपीराइट स्ट्राइक हटाने में कामयाब रहते हैं। तो यह अच्छी बात है। साथ ही अच्छी बात यह भी है कि 90 दिनों के बाद वह स्ट्राइक चैनल से automatically ही हट जाता है।


इन तीन महीनों के लिए आप अपने चैनल से लाइव स्ट्रीम नहीं कर सकते हैं। इसके साथ-साथ आप वीडियोज को मोनेटाइज नहीं कर सकते हैं। ऐसे कई फीचर्स को आपके चैनल से स्ट्राइक के खत्म होने तक disable कर दिया जाता है।


अगर आपको किसी ऐसे वीडियो के लिए स्ट्राइक आता है। जो की पूरी तरह से आपके द्वारा ही बनाया गया है। तो आप यूट्यूब को मेल कर या बता सकते हैं कि वीडियो में यूज कंटेंट आपका ही है, आप ही उसके मूल निर्माता है।


ऐसी स्थिति में यूट्यूब आपकी वीडियो को रिव्यू करता है। और यह जानने की कोशिश करता है कि आपके कंटेंट में कोई कॉपीराइटेड कंटेंट यूज़ किया गया है या नहीं। अगर आपका कंटेंट ओरिजिनल साबित होता है। तो यूट्यूब आपके चैनल से कॉपीराइट स्ट्राइक हटा देता है। और गलत स्ट्राइक करने वाले को ही स्ट्राइक भेज देता है। फिर वह स्ट्राइक उस चैनल पर 90 दिनों के लिए वैलिड रहता है।



कॉपीराइट स्ट्राइक से कैसे बचें?

यूट्यूब कॉपीराइट स्ट्राइक से बचने का सबसे सरल उपाय यह है कि आप किसी ऐसे कंटेंट को अपने चैनल पर अपलोड ना करें। जो कि कॉपीराइटेड है। जो आपके द्वारा नहीं बनाई गई है। और जिसके आप ओरिजिनल मालिक नहीं है।


वहीं अगर आप किसी और की कोई वीडियो फुटेज, इमेज, ऑडियो, सॉन्ग आदि को यूज करना चाहते हैं। तो सबसे पहले आप उस कंटेंट ऑनर से परमिशन ले। जब कंटेंट क्रिएटर आपको अपने कंटेंट को यूज करने की इजाजत दें, तभी आप उसके कंटेंट को अपने चैनल पर यूज करें।


आप कभी भी किसी पैड सॉफ्टवेयर, मूवीज, सॉन्ग आदि को फ्री में डाउनलोड करने पर वीडियो कभी ना बनाएं। यह piracy के अंतर्गत आता है। जो कि गलत है और यूट्यूब के पॉलिसी के खिलाफ है। कंपनीज जो ऐसे कंटेंट को सिक्योर करने का कॉन्ट्रैक्ट लेती है। वह आपके चैनल पर कॉपीराइट स्ट्राइक भेज सकती है।


आप अपने चैनल पर किसी भी ऐसे कंटेंट को यूज ना करें। जिसे कि किसी ने ट्रेडमार्क किया हुआ है। जैसे कि कोई लोगो, कोई बुक, स्टोरी, फोटोग्राफ, पेंटिंग, नोबेल आदि। इस तरह के कंटेंट को भी यूज करने से चैनल पर स्ट्राइक आ जाती है। रिकॉर्डेड मूवी, गेम्स को भी चैनल पर अपलोड करने से स्ट्राइक आ जाती है।


आप अपने यूजर्स (सब्सक्राइबर्स) को कभी भी misleading information देने की कोशिश ना करें। अगर आपके यूट्यूब वीडियो का thumbnail कुछ और है, और डिस्क्रिप्शन में कुछ और लिखा रहे हैं। वीडियो में कुछ और दिखा रहे हैं। तो इससे भी चैनल पर कॉपीराइट स्ट्राइक आ जाती है। इसलिए ऐसा बिल्कुल भी ना करें।


इंटरनेट में बहुत सारी ऐसी वेबसाइट्स है। जहां से आप फ्री में commercial और non-commercial यूज़ के लिए वीडियो, ऑडियो, म्यूजिक, फोटोग्राफ आदि को डाउनलोड कर यूज कर सकते हैं। जैसे pexels, pixabay आदि।


लेकिन इन साइट्स के कुछ गिने-चुने वीडियोज, इमेज को यूज करने पर आपको attribution देने की जरूरत पड़ती है। जिसे कि आप इन्हें डाउनलोड करने से पहले चेक करें।


इसके साथ ही आप अपने वीडियो में hacking, tracking, abusing, harassment जैसे वीडियोज अपलोड करते हैं। तो ऐसे कंटेंट की वजह से भी आपके चैनल को कॉपीराइट स्ट्राइक मिल सकती है। 


ऐसा YouTube Community Guidelines की वजह से आती है। इस गाइडलाइन में यूट्यूब ने बताया है कि यूट्यूब पर आप किस तरह की वीडियोज को अपलोड कर सकते हैं, और किस तरह के वीडियोज को नहीं।



कॉपीराइट क्लेम और कॉपीराइट स्ट्राइक में क्या अंतर है? (Difference between Copyright Claim and Copyright Strike in Hindi)

कॉपीराइट क्लेम और कॉपीराइट स्ट्राइक दोनों ही यूट्यूब के द्वारा बनाए गए नियम है। जिसमें कॉपीराइट क्लेम किसी चैनल पर तब आती है। जब कोई किसी क्रिएटर के द्वारा बनाए गए कंटेंट को अपने चैनल पर बिना उसकी इजाजत के अपलोड कर देता है। यह मूवी क्लिप, सॉन्ग, इमेज, ऑडियो आदि को यूज करने से आती है।


वहीं अगर बात कॉपीराइट स्ट्राइक की करें। तो इसमें ओरिजिनल कंटेंट क्रिएटर अपने कंटेंट को किसी दूसरे के द्वारा बिना उसके इजाजत के यूज करने से उसे एक स्ट्राइक भेज देता है। इससे वह वीडियो यूट्यूब से डिलीट हो जाता है। यह स्ट्राइक उस चैनल पर 3 महीने के लिए वैलिड रहता है। और एक साथ चैनल पर तीन स्ट्राइक आ आने पर वह चैनल यूट्यूब से हमेशा के लिए डिलीट कर दिया जाता है।


कॉपीराइट क्लेम और स्ट्राइक दोनों से ही हमारी यूट्यूब चैनल अफेक्ट करती है। हालांकि हमें क्लेम से ज्यादा घबराने की जरूरत नहीं है। क्योंकि इससे हमारे चैनल पर इसका कोई असर नहीं होता है। हां, इससे हमारी रेवेन्यू जरूर शेयर हो जाती है। लेकिन क्लेम आने पर हमारी वीडियो और चैनल यूट्यूब से डिलीट नहीं होती है।


लेकिन हमें कॉपीराइट स्ट्राइक से बच के रहना चाहिए। अपने कंटेंट में खुद के ही बनाई हुई चीजों को यूज करनी चाहिए। जहां attribution और परमिशन की जरूरत होती है। वहां इसे मेंशन करनी चाहिए। जितना ज्यादा हो सके आप खुद का ही कंटेंट अपने यूट्यूब चैनल पर अपलोड करें।



निष्कर्ष

आज यूट्यूब एक बहुत बड़ा ऑनलाइन प्लेटफॉर्म बन गया है। जहां से आप बहुत कुछ सीख सकते हैं। अपना एक अच्छा खासा करियर बना सकते हैं। अच्छी खासी इनकम जेनरेट कर सकते हैं। लेकिन यूट्यूब में आने से पहले आप इसकी कॉपीराइट क्लेम और कॉपीराइट स्ट्राइक के बारे में जरूर पढ़ें। यूट्यूब पर किस तरह के कंटेंट अपलोड करनी चाहिए? आदि के बारे में जानकारी जरूर रखें।


इस आर्टिकल में हमने आपको बताया कि Copyright Claim और Copyright Strike क्या है? कैसे हटाएं? इसके साथ-साथ हमने इससे बचने के उपायों और दोनों में क्या अंतर है? आदि के बारे में जानकारी दी।


अगर आपको यह पोस्ट अच्छी लगी हो। तो आप इसे अपने सोशल मीडिया जैसे कि फेसबुक, टि्वटर, इंस्टाग्राम आदि में जरूर शेयर करें। आप इस आर्टिकल को अपने दोस्त, भाई, रिश्तेदारों को भी भेज सकते हैं। जो कि यूट्यूब में अपना एक बेहतर कैरियर बनाना चाहते हैं। और इस फील्ड में बहुत आगे जाना चाहते हैं।


हम आशा करते हैं कि आपको हमारी यह पोस्ट जरूर पसंद आई होगी। अगर आपको इस पोस्ट को लेकर कोई सुझाव या कोई राय हो। तो आप हमें कमेंट करके जरूर बताएं इस आर्टिकल को अंत तक पढ़ने के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद !!

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ