SEO Friendly URL क्या है? और कैसे बनाएं

एक ब्लॉग बनाना जितना आसान होता है। उतना ही ज्यादा मुश्किल उस ब्लॉग को सर्च इंजन में रैंक कराना होता है।

अपने ब्लॉग और वेबसाइट को गूगल या फिर किसी दूसरे सर्च इंजन में रैंक कराने के लिए proper SEO (Search Engine Optimization) करना पड़ता है। SEO के सारे फैक्टर्स को सही से अपने ब्लॉग और वेबसाइट में अप्लाई करनी पड़ती है। तभी वेबसाइट SERPs में रैंक करती है।

SEO Friendly URL kya hai

इस आर्टिकल में हम SEO के ही एक फैक्टर URLs के बारे में जानने वाले हैं। जिसमें हम SEO Friendly URL क्या है? और कैसे बनाएं के बारे में जानेंगे। यह हमारे ब्लॉग और वेबसाइट के लिए क्यों जरूरी है? और इससे हमारी वेबसाइट की SEO पर क्या प्रभाव पड़ता है? आदि सभी चीजों के बारे में हम इस आर्टिकल में जानने वाले हैं।


SEO Friendly URL क्या है? (What is SEO Friendly URL in SEO Hindi)

SEO Friendly URLs वो urls होते हैं। जिन्हें यूजर्स की need और उनकी सर्च से match कराने के लिए डिजाइन किया जाता है। जो कि short होता है और जिसमें focus keyword/primary keyword का यूज किया जाता है।


SEO Friendly URLs हमारे वेबसाइट के लिए क्यों जरूरी है?

हमारे पोस्ट के title tag, meta description, Links, content की मदद से जिस तरह सर्च इंजन हमारे वेबपेज को समझ पाता है। उसी तरह पोस्ट के URLs को SEO friendly बनाने से सर्च इंजन यह समझ पाते हैं कि कोई एक specific वेबपेज किस के बारे में लिखा गया है।

इसके साथ साथ यह यूजर्स के लिए भी फायदेमंद साबित होता है। इससे यूजर्स आसानी से हमारे URL को समझ पाते हैं। और जान पाते हैं कि पोस्ट किस keyword के ऊपर लिखा गया है। इससे यूजर्स का सर्च experience बेहतर होता है। वेबसाइट की रैंकिंग अच्छी होती है। और वेबसाइट की organic traffic increase होती है।


SEO Friendly URLs कैसे बनाएं?

SEO Friendly URLs बनाना बहुत आसान है इसमें बस कुछ चीजों को ध्यान में रखने की जरूरत होती है। जिससे हमारे ब्लॉग और वेबसाइट की SEO तकनीक अच्छी और बेहतर हो सकें। नीचे कुछ पॉइंट्स बताएं गए हैं। जिसकी मदद से आप एक SEO friendly URLs बना सकते हैं।

URL में keyword का यूज करें

आप अपने ब्लॉग पोस्ट के URLs में keyword का यूज करें। जिसमें आपने अपनी ब्लॉग पोस्ट लिखी हुई है। आप अपने URL में एक focus keyword और दूसरा उससे मिलता जुलता semantic Keyword का यूज करें। इस से सर्च इंजन, यूजर्स पोस्ट को आसानी से समझ पाते हैं।

आप अपने focus keyword को URLs के शुरुआत में इस्तेमाल करने की कोशिश करें। इससे अच्छी रैंकिंग में मदद मिलती है। इसमें आप keyword stuffing न करें। एक से ज्यादा बार अपने focus keyword को URL में यूज न करें। इससे keyword stuffing हो सकती है।


URL को छोटा रखने की कोशिश करें

छोटे ब्लॉग पोस्ट्स के URLs बड़े ब्लॉग पोस्ट के URLs की तुलना में जल्दी रैंक करती है। इसलिए हमेशा यह कोशिश करें कि आपके ब्लॉग और वेबसाइट का URLs छोटा हों। और जो हर किसी को आसानी से समझ में आता हो।

ज्यादा बड़े URLs न तो बेहतर रैंक कर पाती है। और न ही गूगल के SERPs (Search Engine Results Pages)  में पूरी तरह से दिखाई पड़ती है। आप अपने URLs की length को 60-65 character तक में या फिर इससे कम ही रखने की कोशिश करें। इस बात का ध्यान रखें।


Hyphens (-) का यूज करें

अपने ब्लॉग पोस्ट के URLs को optimized करने के लिए हमेशा hyphens का यूज करें। आप underscore (_) को कभी भी यूज न करें। Underscore का यूज करने पर दो कीवर्ड सर्च इंजन को एक ही दिखाई पड़ते हैं। जैसे digital_marketing रखने पर सर्च इंजन इसे एक साथ digitalmarketing समझते हैं। इसे आप यूज न करें।

वहीं hyphens का यूज करने पर digital-marketing को सर्च इंजन digital marketing पढ़ते हैं। इसके साथ साथ आप अपने URLs में symbols, numbers आदि को यूज करने से बचें। इसे सर्च इंजन नहीं समझ पाते हैं।


URLs को lower case में ही रखें

इसमें बहुत से नए ब्लॉगर्स को यह confusion रहता है कि यूआरएल को capital letters में रखें या फिर small letters में। आप URL को हमेशा lower case (small letters) में ही रखें। सर्च इंजन को capital में लिखें urls को समझने में परेशानी होती है। गूगल यह recommend करता है कि URLs को lower case में ही रखनी चाहिए।


Stop words को यूज करने से बचें

Stop words ऐसे वर्ड्स होते हैं। जो किसी वाक्य के बीच में यूज की जाती है। जैसे- a, an, the, but, any, आदि। ऐसे वर्ड्स URLs को बड़ा बनाते हैं। इसके साथ ही इन्हें सर्च इंजन crawl नहीं करते हैं। अपने यूआरएल में उतने ही वर्ड्स का यूज करें। जितने वर्ड्स की जरूरत होती हो।


HTTPS वाले URLs का यूज करें

HTTPS को गूगल एक रैंकिंग फैक्टर मानता है। जिस भी वेबसाइट्स की URLs HTTPS में होती है। उनकी रैंकिंग HTTP वाले URLs की तुलना में ज्यादा होती है। और गूगल भी अपने SERPs में उन वेबसाइट्स या ब्लॉग्स को अच्छी रैंकिंग देता है जो HTTPS के साथ open होती है।

यूआरएल के HTTPS के साथ ओपन होने से किसी साइट के secure होने का पता चलता है। इससे यूजर्स का trust वेबसाइट पर increase होता है। अगर आपके ब्लॉग पोस्ट का URL HTTPS के साथ ओपन नहीं होता है। तो आप अपने ब्लॉग और वेबसाइट में SSL certificate को यूज करें। जिससे वेबसाइट HTTPS के साथ ओपन हो सकें।


URLs में English या Hinglish कीवर्ड का यूज करें

अगर आप इंग्लिश में आर्टिकल लिखते हैं। तो आप अपने URL को English में रखें। लेकिन अगर आपकी कोई हिंदी ब्लॉग की वेबसाइट है। तब आप अपने ब्लॉग पोस्ट के यूआरएल में Hinglish keywords का इस्तेमाल करें। 

Hinglish कीवर्ड ऐसे कीवर्ड होते हैं। जिनका उच्चारण तो हिंदी में ही होता है। लेकिन वह इंग्लिश में लिखे जाते हैं। जैसे SEO kya hai, blogging Kaise Kare आदि।


Date यूज करने से बचें

अपने ब्लॉग पोस्ट के यूआरएल में date को यूज करने से बचें। हालांकि जिनकी वेबसाइट blogger में है। जो कि blogger में अपने पोस्ट पब्लिश करते हैं। उनके पोस्ट्स के यूआरएल में date by default आ ही जाता है। जिसे की सिर्फ redirections की मदद से ठीक किया जा सकता है।

लेकिन अगर आपकी वेबसाइट WordPress में है। तब आप अपने URLs को अपनी तरह से customized कर सकते हैं। आप अपने URL में किसी भी ऐसे element, fonts को यूज न करें। जो यूजर्स और सर्च इंजन के बोट्स को confused करते हों। इसे simple ही रखें।


निष्कर्ष

SEO के बाकि फैक्टर्स की ही तरह SEO Friendly URL का यूज करना भी हमारे वेबसाइट के SEO के स्कोर को बढ़ाने का काम करते हैं। SEO Friendly URLs होने से सर्च इंजन और यूजर्स हमारे वेबसाइट के content को आसानी से समझ पाते हैं। खास करके तब जब हमारी पोस्ट किसी social media प्लेटफॉर्म में शेयर होती है।

SEO Friendly URLs होने से हमारे ब्लॉग और वेबसाइट की रैंकिंग SERPs में अच्छी होती है। इसमें आप अपने focus keyword को यूज करें। इसे छोटा ही रखें। जो यूजर्स और सर्च इंजन को आसानी से समझ में आती हो।

इस आर्टिकल में हमनें SEO Friendly URL क्या है? और कैसे बनाएं? के बारे में जानकारी हासिल की। आपको यह जानकारी अच्छी लगी या नहीं? हमें कमेंट करके जरूर बताएं। अगर आपको यह जानकारी अच्छी लगी हो। तो इसे अपने सोशल मीडिया प्लेटफार्म में जरूर शेयर करें।

धन्यवाद

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ