Dofollow Backlink और Nofollow Backlink क्या है? दोनों में क्या अंतर है

ब्लॉगिंग और SEO (Search Engine Optimization) में Backlinks शब्द बहुत ज्यादा सुनने को मिलता है।

अगर आप अपने ब्लॉग और वेबसाइट के लिए backlinks बनाते हैं। तो आपका ब्लॉग और वेबसाइट गूगल के सर्च इंजन रिजल्ट्स पेजेस (SERPs) में जल्दी रैंक करती है। यह हमारे SEO के स्कोर को बढ़ाने का काम करती है।

Dofollow Backlink aur Nofollow Backlink kya hai

इस आर्टिकल में हम Backlinks के बारे में जानने वाले हैं। जिसमें हम Dofollow Backlink और Nofollow Backlink क्या है? दोनों में क्या अंतर है? Backlinks SEO के लिए कितना महत्वपूर्ण है? आदि के बारे में हम इस आर्टिकल में जानने वाले हैं। लेकिन इससे पहले जान लेते हैं कि आखिर Backlink क्या होता है?


Backlink क्या होता है? (What is Backlink in SEO Hindi)

Backlink एक लिंक होता है। जो एक वेबसाइट को किसी दूसरे वेबसाइट के साथ जोड़ने का काम करता है। बैकलिंक वेबसाइट की अच्छी रैंकिंग में अहम भूमिका निभाती है और यह वेबसाइट की अथॉरिटी को बढ़ाने का काम करती है।

अगर ज्यादा से ज्यादा हाई क्वालिटी के बैकलिंक किसी भी ब्लॉग या वेबसाइट को प्वाइंट करती है। तो इससे ज्यादा से ज्यादा traffic (यूजर्स) उस ब्लॉग, वेबसाइट पर आयेगा।

गूगल बैकलिंक की quality और quantity दोनों को चेक करता है। जो किसी एक specific ब्लॉग या वेबसाइट को प्वाइंट करती है। इसी से गूगल को वेबसाइट की वैल्यू का पता चलता है। वेबसाइट कितनी authoritative है? यह वेबसाइट के बैकलिंक के जरिए पता किया जा सकता है।


Backlinks कितने प्रकार के होते हैं? (Types of Backlinks in SEO Hindi)

Backlinks मुख्यता दो प्रकार के होते हैं

  1. Dofollow Backlink
  2. Nofollow Backlink

ये दोनों प्रकार के बैकलिंक ब्लॉग और वेबसाइट की ट्रैफिक को बढ़ाने का काम करती है। ये दोनों ही तरह के बैकलिंक ब्लॉग और वेबसाइट के लिए महत्वूर्ण होते हैं। इन्हीं के बारे में हम इस आर्टिकल में जानने वाले हैं।


Dofollow Backlink क्या है? (What is Dofollow Backlink in SEO Hindi)

Dofollow Backlink वो लिंक होते हैं। जिन्हें सर्च इंजन के crawlers और यूजर्स दोनों फॉलो करते हैं। अगर दूसरे शब्दों में कहें तो वो लिंक्स जिसमें 'Dofollow' attribute होता है। वह लिंक Dofollow Backlink कहलाता है।

उदाहरण:

<a href=”http://www.website.com/”>Link Text</a>

Dofollow Backlink हमारे ब्लॉग और वेबसाइट की रैंकिंग को direct रूप से effect करती है। Dofollow Backlinks हमारे ब्लॉग और वेबसाइट की अथॉरिटी को बढ़ाने का काम करती है। वेबसाइट की ट्रैफिक increase होती है। जिस भी ब्लॉग और वेबसाइट में हाई क्वालिटी के dofollow backlinks होते हैं। वह वेबसाइट गूगल की नजर में एक authoritative वेबसाइट मानी जाती है।

सर्च इंजन जैसे कि गूगल के crawlers एक वेबसाइट को दूसरे वेबसाइट के dofollow links के जरिए भी crawl और index करते हैं। अगर आपके ब्लॉग, वेबसाइट की लिंक किसी दूसरे authoritative वेबसाइट में है। और वह लिंक dofollow लिंक है। तो गूगल के crawlers उस authoritative वेबसाइट को crawl करते समय आपके ब्लॉग और वेबसाइट को भी विजिट और crawl करेंगें। 


Dofollow Backlink SEO में क्यों जरूरी है?

Dofollow Backlink एक reference की तरह होता है। अगर कोई authoritative वेबसाइट reference के तौर पर आपकी वेबसाइट के लिंक को dofollow लिंक देती है। तो इससे उस वेबसाइट की जो अथॉरिटी होगी, जो वैल्यू होगी। वह उस लिंक के जरिए आपके ब्लॉग, वेबसाइट में भी transfer होगी। इससे आपकी वेबसाइट भी गूगल की नजर में एक authoritative वेबसाइट मानी जायेगी।

यही कारण है जो सभी ब्लॉगर्स, वेबमस्टर्स और SEOs हमें ज्यादा से ज्यादा dofollow लिंक बनाने के लिए कहते हैं।

अगर आपके ब्लॉग, वेबसाइट को किसी high Domain Authority और Page Authority वाली वेबसाइट से बैकलिंक मिलती है। तो इससे आपके वेबसाइट की भी डोमेन अथॉरिटी और पेज अथॉरिटी increase होगी। Dofollow लिंक ट्रैफिक का अच्छा source होती है।

अगर एक हाई ट्रैफिक वाली वेबसाइट आपके वेबसाइट को बैकलिंक देती है। तो उस वेबसाइट की ट्रैफिक भी आपके वेबसाइट में redirect होगी। वेबसाइट में ज्यादा ट्रैफिक वेबसाइट के पेजेस को गूगल में रैंक कराने में मदद करती है। साथ ही यह Pagerank को भी increase करती है।


Nofollow Backlink क्या है? (What is Nofollow Backlink in SEO Hindi)

Nofollow Backlink वो लिंक होते हैं। जो सिर्फ यूजर्स द्वारा ही फॉलो किये जाते हैं। सर्च इंजन के crawlers ऐसे लिंक्स को फॉलो नहीं करते हैं। Nofollow links में "rel=Nofollow" attribute होता है। जिससे वेबसाइट की अथॉरिटी किसी दूसरे वेबसाइट में ट्रांसफर नहीं होती।

उदाहरण:

<a href=”http://www.website.com/” rel=”nofollow”>Link Text</a>

Nofollow बैकलिंक Dofollow बैकलिंक के जितना valuable नहीं होती है। लेकिन दोनों ही प्रकार के links

SEO के लिए जरूरी होते हैं। Dofollow बैकलिंक वेबसाइट की अथॉरिटी को बढ़ाने का काम करती है। तो वहीं Nofollow बैकलिंक वेबसाइट referral ट्रैफिक को बढ़ाने का काम करती है। इसके साथ साथ इससे हमारे ब्लॉग और वेबसाइट की promotion भी हो जाती है।


Nofollow Backlink SEO में क्यों जरूरी है?

Nofollow बैकलिंक जैसे blog comments, social media, sponsored content QnA साइट्स के लिंक्स Nofollow लिंक्स होते हैं। जो हमारे ब्लॉग और वेबसाइट की referral ट्रैफिक को बढ़ाने का काम करती है। 

अगर आपके ब्लॉग, वेबसाइट को सोशल मीडिया साइट्स जैसे Facebook, Instagram, Twitter, Pinterest, LinkedIn आदि से Nofollow बैकलिंक मिलती है। तो इससे आपके वेबसाइट की ट्रैफिक increase होती है। ये हमारे बिजनेस और brand की अथॉरिटी को बढ़ाती है।

Nofollow लिंक्स हमारे बैकलिंक प्रोफाइल को natural रखती है। जो SEO के लिए जरूरी होता है। अगर आपके वेबसाइट में dofollow लिंक्स बहुत ज्यादा हैं। तो गूगल को लगेगा कि आप सिर्फ रैंकिंग के उद्देश्य से बैकलिंक बना रहे हैं। यूजर्स को कोई वैल्यू नहीं दे रहे हैं। इसलिए आप Dofollow और Nofollow लिंक्स दोनों का यूज करें।


कैसे पता करें लिंक Dofollow है या Nofollow?

ऐसे बहुत से तरीके हैं। जिसकी मदद से आप यह पता कर सकते हैं कि कोई लिंक dofollow है या फिर nofollow

आप जिस भी लिंक को चेक करना चाहते हैं। उस लिंक पर right click करके "inspect" या "inspect element" पर क्लिक करके आप dofollow लिंक और nofollow लिंक्स का पता कर सकते हैं। अगर inspect करने पर आपको HTML code में "rel=nofollow" attribute दिखाई देता है। तो इसका यह मतलब है कि वह लिंक no- follow लिंक है। वहीं अगर "rel=nofollow" जैसा कोई HTML टैग आपको नहीं दिखाई देता है। तो इसका मतलब है कि वह लिंक एक dofollow बैकलिंक है।

सभी लिंक्स by default Dofollow लिंक्स ही होती है। जिसमें "rel=nofollow" टैग जोड़कर उसे nofollow लिंक बनाया जाता है।

इसके साथ ही आप chrome extension Nofollow और Nofollow Simple का यूज करके भी nofollow लिंक्स का पता कर सकते हैं। 


Nofollow Links का यूज कब करें?

  1. कई बार हमें अपने वेबसाइट को किसी दूसरे वेबसाइट के साथ लिंक करना होता है। जिसके बारे में हमें अच्छे से पता नहीं होता है। ऐसे वेबसाइट्स को हमें nofollow लिंक देना चाहिए।
  2. ऐसे वेबसाइट को जिसका content आपके वेबसाइट के content से मैच नहीं करती हो। जिसका टॉपिक आपके वेबसाइट के टॉपिक से relevant न हो।
  3. अगर आप अपने ब्लॉग और वेबसाइट में affiliate links को promote करते हैं। तब आप nofollow लिंक दें।
  4. ब्लॉग के comment सेक्शन में सबसे ज्यादा स्पामिंग होती है। यहां पर आप अपने यूजर्स द्वारा किए गए कमेंट को "rel=nofollow" attribute जरूर दें।


Dofollow Links का यूज कब करें?

  1. अगर आप किसी हाई क्वालिटी वेबसाइट को लिंक कर रहे हैं। तब आप उस वेबसाइट को dofollow लिंक दे सकते हैं।
  2. अगर आप किसी दूसरे ब्लॉग या वेबसाइट के content को अपने वेबसाइट में यूज करते हैं। तब आप reference के तौर पर उस वेबसाइट को dofollow लिंक दें।
  3. उन सभी वेबसाइट्स को जिसका कंटेंट आपके ब्लॉग और वेबसाइट के कंटेंट से मैच करती हो। जो आपके वेबसाइट के टॉपिक से मैच करती हो। उसे dofollow लिंक दें।


Dofollow और Nofollow लिंक्स की ratio क्या रखें?

एक successful वेबसाइट में dofollow लिंक्स की संख्या nofollow लिंक्स की तुलना में ज्यादा होती है। 

इसमें Dofollow और Nofollow लिंक्स की ratio क्या रखें? इसको लेकर सभी के अपने अपने जवाब हैं। कुछ 50/50 nofollow और dofollow लिंक्स की ratio को बेहतर बताते हैं। तो वहीं कुछ 30/70 को बेहतर बताते हैं।

हालांकि Alexa Rank में जो टॉप वेबसाइट्स हैं। उनकी बैकलिंक की ratio 25/75 की है। कहने का मतलब है कि अगर आप अपने वेबसाइट के लिए 10 Backlinks बना रहें है। तो उनमें से 3-4 को nofollow backlink रखें। वहीं 7-6 को आप dofollow backlink यूज करें।


Nofollow Backlink और Dofollow Backlink में क्या अंतर है? (Difference between Nofollow Backlink and Dofollow Backlink in SEO Hindi)

Nofollow Backlink और Dofollow Backlink में अंतर tags का है। Nofollow Backlink के HTML टैग में "rel=nofollow" attribute होता है। Dofollow Backlink में "rel=nofollow" जैसा कोई टैग नहीं होता है। By default सभी लिंक dofollow ही होती है।

जहां Dofollow Backlink वेबसाइट की अथॉरिटी को बढ़ाने का काम करती है। वहीं Nofollow Backlink वेबसाइट को promote करने, अपने Brand/Product को promote करने के काम में यूज किया जाता है। दोनों ही प्रकार के बैकलिंक SEO में अपना महत्व रखती है। और दोनों ही बैकलिंक वेबसाइट की ट्रैफिक को बढ़ाती है।


निष्कर्ष

Dofollow Backlink और Nofollow Backlink दोनों ही हमारी वेबसाइट के लिए जरूरी होता है। इन लिंक्स की मदद से वेबसाइट की अथॉरिटी, ट्रैफिक और ब्रांडिंग अच्छी होती है। आप Guest Post और अपने ब्लॉग, वेबसाइट को सोशल मीडिया में शेयर करके अपने dofollow लिंक और nofollow लिंक्स की संख्या को बढ़ा सकते हैं।

बैकलिंक बनाते समय आप कुछ बातों का ध्यान रखें जैसे जिस वेबसाइट को आप बैकलिंक दे रहे हैं या फिर जिस वेबसाइट से आपके वेबसाइट को बैकलिंक मिल रही है। वह एक authoritative वेबसाइट है या नहीं चेक करें।

बैकलिंक देने और लेने वाली वेबसाइट आपके टॉपिक से मैच करती है या नहीं। उसकी content आपके वेबसाइट से मैच करती है या नहीं आदि सभी चीजों को चेक करने के बाद ही किसी वेबसाइट से बैकलिंक लेने की कोशिश करें।

इस आर्टिकल में हमनें Backlinks के बारे में जाना। Dofollow Backlink और Nofollow Backlink क्या है? दोनों में क्या अंतर है? यह SEO के लिए कितना जरूरी होता है? आदि के बारे में हमने इस आर्टिकल में जाना।

आपको हमारी इस पोस्ट से अच्छी जानकारी मिली या फिर नहीं हमें जरूर बताएं। साथ ही अगर आपको इस पोस्ट के संबंध में किसी प्रकार का कोई सवाल या सुझाव हो। तो आप हमें नीचे कमेंट में पूछ सकते हैं। हमें खुशी होगी।

अगर जानकारी अच्छी लगी हो तो आप इस पोस्ट को अपने सोशल मीडिया प्रोफाइल जैसे Facebook, Twitter या फिर अपने दोस्तों, रिश्तेदारों को शेयर कर सकते हैं। जो ब्लॉगिंग या डिजिटल मार्केटिंग सीख रहे हैं।

धन्यवाद


एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ