Google Hummingbird Algorithm update क्या है?

Google algorithm updates के बारे में हर ब्लॉगर और डिजिटल मार्केटर जानने के लिए इक्छुक रहता है । क्योंकि इन्ही algorithms की मदद से गूगल किसी वेबसाइट को रैंक कराता है । गूगल हर साल अपने एल्गोरिथम में हजारों तरह के अपडेट्स करते रहता है ।

गूगल पूरी तरह से अपने बनाएं हुए अलग अलग तरह के algorithms के जरिए काम करता है । ये एल्गोरिथम इन्टरनेट पर मौजूद हर वेबसाइट्स को चेक करने का काम करता है । और जो वेबसाइट्स यूजर्स को एक अच्छा और बेहतर रिजल्ट्स प्रोवाइड करता है । उसे गूगल रैंक कराता है । रैंकिंग की सारी प्रक्रिया गूगल अपने algorithms की मदद से पूरा करता है ।

जब भी गूगल की कोई नई अपडेट आती है । तो सर्च इंजन रिजल्ट्स पेजेस ( SERP ) में रैंक कर रही वेबसाइट्स पर असर देखने को मिलता है । कुछ वेबसाइट्स गूगल के नए एल्गोरिथम अपडेट्स की वजह से रैंक कर जाती है । तो वहीं कुछ वेबसाइट्स की रैंकिंग सर्च इंजन रिजल्ट्स पेजेस में कम हो जाती है । किसी वेबसाइट पर इसका पॉजिटिव असर दिखाता है । तो वहीं कुछ वेबसाइट्स पर इसका नेगेटिव असर भी देखने को मिलता है ।

ब्लॉगर्स और डिजिटल मार्केटर इन सभी अपडेट्स की जानकारी रखते हैं । और अपने वेबसाइट्स के लिए SEO करते हैं । जो कि मुख्य रूप से गूगल के इन्ही एल्गोरिथम को ध्यान में रखकर किया जाता है । जिससे कि उनकी वेबसाइट पर गूगल के algorithms का नेगेटिव असर न पड़े । और साथ ही उनकी वेबसाइट्स की रैंकिंग सर्च इंजन रिजल्ट्स पेजेस में अच्छी बनी रहे ।

वैसे तो गूगल अपने algorithms को बहुत से कारणों की वजह से अपडेट करते रहता है । परंतु इन एल्गोरिथम को अपडेट करने का जो मुख्य कारण है वह है क्वॉलिटी कंटेंट को बढ़ावा देना । Spamming और black hat SEO प्रैक्टिसेस को रोकना । और यूजर्स को लगातर अच्छे और वैल्यूएबल information लगातर प्रोवाइड करते रहना ।

Google Hummingbird Algorithm kya hai


गूगल के इन सारे algorithms में से आज हम आपको गूगल के ही Hummingbird Algorithm के बारे में अच्छी और पूरी जानकारी देने वाले हैं । जिसमें आप जनेंगे कि Google Hummingbird Algorithm update क्या है? और कैसे काम करता है? इस एल्गोरिथम की मदद से हम अपने वेबसाइट को किस तरह से SERP में बेहतर रैंक करा सकते हैं? आदि जानकारियां आपको इस आर्टिकल में जानने को मिलेगी । 


Google Hummingbird Algorithm update क्या है?

Google Hummingbird Algorithm 20 अगस्त, 2013 को लॉन्च किया गया था । यह algorithm पूरी तरह से यूजर्स द्वारा सर्च की जा रही queries के intent को समझकर यूजर्स के intent पर बेस्ट रिजल्ट्स प्रोवाइड करने के लिए डिजाइन किया गया है । यह पूरी तरह से यूजर्स के इंटेंट पर रिजल्ट्स दिखाने का काम करता है ।

जब गूगल का Panda और Penguin algorithms को लॉन्च किया गया था । तब बहुत सारी वेबसाइट्स की रैंकिंग में असर पड़ा था । कुछ वेबसाइट्स की रैंकिंग बढ़ गई थी । तो कुछ वेबसाइट्स की रैंकिंग अचानक से कम हो गई थी । हालांकि गूगल Hummingbird Algorithm के आने से वेबसाइट्स पर कुछ खास असर देखने को नहीं मिला था ।

जैसा कि हमने आपको गूगल के Hummingbird Algorithm के बारे में बताया कि यह मुख्य रूप से यूजर्स के इंटेंट पर काम करता है । यूजर्स द्वारा टाइप की जा रही queries से जो इंटेंट पता चलता है । उसी इंटेंट पर गूगल यूजर्स को बेस्ट रिजल्ट्स देने की कोशिश करता है ।

इस एल्गोरिथम को हम एक उदाहण से समझने की कोशिश करते हैं । जैसे अगर हम गूगल पर "Coffee" कीवर्ड सर्च करते हैं । तो गूगल हमें प्रायः coffee के बारे में जानकारी देगा । जैसे कॉफी क्या है? कॉफी का इतिहास और कॉफी के बारे में लिखे गए आर्टिकल्स हमें गूगल के सर्च इंजन रिजल्ट्स पेजेस में देखने को मिलती है ।

वो इसलिए क्योंकि सिर्फ़ coffee कीवर्ड सर्च करने पर गूगल को लगेगा कि हम कॉफी के बारे में जानकारी पता करना चाहते हैं । कॉफी के बारे में लिखे गए आर्टिकल्स पढ़ना चाहते हैं । और इस तरह गूगल के सर्च इंजन रिजल्ट्स पेजेस में हमें कॉफी की एक पूरी विकिपीडिया जैसी जानकारियां पढ़ने को मिलती है ।

वहीं अगर हम गूगल पर "coffee shops near me" कीवर्ड सर्च करते हैं । तो प्रायः हमें हमारे आस पास के coffee shops की Google My Business की एक लिस्टिंग दिखाई देती है । क्योंकि इस कीवर्ड से गूगल को लगेगा कि अब हम कॉफी पीना चाहते हैं । और गूगल हमें हमारे पास के कॉफी shops के बारे में जानकारी देता है ।

हम जिस तरह की क्वेरीज गूगल में करते हैं । क्वेरीज में हमारा जो इंटेंट गूगल को पता चलता है । वहीं इंटेंट के आधार पर गूगल हमें रिजल्ट्स देता है । इसी इंटेंट को समझकर यूजर्स को बेहतर रिजल्ट्स देने का काम गूगल का hummingbird algorithm करता है ।

जब भी हम गूगल में कोई कीवर्ड सर्च कर रहे होते हैं । तो हमें हमारे ही कीवर्ड से मिलते जुलते कीवर्ड suggest की जाती है । जो कि यूजर्स द्वारा सर्च की जाती है । जिसे कि semantic searches कहा जाता है । यह भी गूगल के Hummingbird Algorithm की वजह से होता है ।

इसके साथ ही जब हम गूगल पर वॉयस सर्च करते हैं । तो हमारे द्वारा पूछे जाने वाले क्वेरीज में अधिकतर long-tail keywords की संख्या बहुत ज्यादा होती है । जब भी कोई वॉयस सर्च की जाती है । तो गूगल पहले बोले जा रहे वर्ड्स की भाषा को समझने की कोशिश करता है । 

इसके बाद क्वेरीज के इंटेंट को समझता है कि आखिर यूजर क्या जानने की कोशिश कर रहा है? फिर गूगल यूजर्स को उनके इंटेंट के आधार पर बेस्ट पॉसिबल रिजल्ट्स show करता है । जिससे कि यूजर्स का सर्च एक्सपीरियंस अच्छा हो सके । और इसमें भी गूगल का hummingbird algorithm काम करता है ।

आप जब भी किसी टॉपिक पर आर्टिकल लिखते हैं । तो कोशिश करें कि उस टॉपिक के बारे में आपको अच्छी जानकारी हो । आप अपने टॉपिक से मिलते जुलते सभी सवालों का जवाब देने की कोशिश करें । जिससे कि यूजर्स को आपकी वेबसाइट अच्छी लगे । आपके द्वारा लिखी गई आर्टिकल्स से यूजर्स को अच्छी और पूरी जानकारी प्राप्त होती हो । जो यूजर्स के क्वेरी के relevant और जो यूजर्स के लिए फायदेमंद साबित होती हो । इससे आपकी वेबसाइट के रैंक होनी की चांसेज बढ़ जाती है ।


निष्कर्ष

इस आर्टिकल में हमनें आपको गूगल के Hummingbird Algorithm के बारे में जानकारी दी है । यह एल्गोरिथम यूजर्स के इंटेंट को समझने के लिए डिजाइन किया गया है । यूजर क्या सर्च कर रहा है? सर्च करके यूजर क्या जानना चाहता है? आदि क्वेरीज को गूगल का यह एल्गोरिथम समझता है और यूजर्स को बेस्ट रिजल्ट्स देता है ।

हम आशा करते हैं कि आपको हमारी यह पोस्ट Google Hummingbird Algorithm update क्या है? और कैसे काम करता है? से अच्छी और पूरी जानकारी प्राप्त हुई होगी । अगर आपको इस आर्टिकल के संबंध में कोई भी सुझाव या सवाल हो तो आप हमें प्रतिक्रिया दे सकते हैं । 

साथ ही आप इस पोस्ट को आपने दोस्तों, रिश्तेदार, भाई आदि को शेयर कर सकते हैं । जो कि ब्लॉगिंग या डिजिटल मार्केटिंग सीख रहें हैं । 

धन्यवाद 


एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ