SEO-Onpage SEO क्या है?

अगर आप एक Blogger हैं तो SEO की अच्छी जानकारी होना बहुत जरुरी है । यह किसी भी वेबसाइट को रैंक कराने में बहुत मदद करता है । लेकिन SEO को पूरी तरह से समझ पाना, या यूं कहें अच्छे से सिख पाना अपने आप में एक बहुत बड़ी बात है । वो इसलिए क्योंकि यह एक बहुत बड़ा टॉपिक है । यह कितना बड़ा टॉपिक है? इस सवाल के जवाब का अंदाजा आप इस बात से लगा सकते हैं कि अगर आप इसके 500 से भी ज्यादा विडियोज भी देख लें तब भी कम है ।

हालांकि इस आर्टिकल में हमने कोशिश की है कि आपको SEO कि बेसिक जानकारी दें सकें । हमने उन बातों को आपके साथ साझा करने की कोशिश की है जो बेसिक है ।  SEO क्या है, On-Page SEO क्या है और कैसे करें के बारे में बेसिक जानकारी देने की कोशिश की है । जिससे कि आप अपने आर्टिकल, वेबसाइट के लिए on-page SEO कर सकें । 


SEO की शुरुआत 

SEO या Search Engine Optimisation की शुरुआत 1991 में हुई । यही वह साल था जब internet में पहली website बनी थी । 

जब समय बढ़ते गया तो इंटरनेट में websites की संख्या भी बढ़ती चली गई । जिससे बहुत सारा content इंटरनेट में आ गया । सारे content किसी एक फील्ड का नहीं था । बहुत सारे niches में websites बनाई गई चूंकि इस समय search engine ज्यादा पॉपुलर नहीं था । लोग search engine क्या है और कैसे काम करता है के बारे में नहीं जानते थे तो इन सभी websites को एक्सेस करने में यूजर को बहुत मुश्किल होती थी । 

इन websites को ढूंढ पाने में मुश्किल होती थी । जो जरुरत पड़ी वह structure और accessibility की हुई, कि आखिर इन सारी वेबसाइट्स को एक्सेस कैसे किया जाए । यहां से शुरुआत हुई search engine का ।

इन सभी वेबसाइट्स को एक्सेस करने की परेशानी को देखते हुए Larry Page और Sergey Brin ने एक search engine बनाने के बारे में सोचा । जो आगे चलकर दुनिया की सबसे सफल सर्च इंजन Google बनी । Yahoo भी उस समय था लेकिन वह Google जितना पॉपुलर नहीं हुआ । इसी समय SEO अपने existence में आया था ।

हालांकि गूगल का नाम शुरू में Backrub था जो आगे चलकर Google बना । जब Google आया तब जाकर लोगों को यह एहसास हुआ कि वे search engine के द्वारा अपने आर्टिकल को दुनिया तक पहुंचा सकते हैं ।

Google के द्वारा लोगों को मौका मिला अपने आर्टिकल, वेबसाइट को दुनिया तक पहुंचा पाने का ।

SEO-Onpage SEO kya hai

SEO क्या है?

SEO एक technique है, step, एक process है जिसकी मदद से हम Search Engine Results Pages में अपनी वेबसाइट को किन्हीं particular कीवर्ड पर रैंक कराते हैं ।

आप इसे ऐसे भी समझ सकते हैं कि यह एक process है जिसकी मदद से हम किसी भी content/website को ज्यादा से ज्यादा लोगो तक पहुंचा सकते हैं । ये वो तरीका है जिसको कर के हम SERP में अपनी वेबसाइट की रैंकिग को बेहतर बनाने की कोशिश करते हैं । Search Engine के मुताबिक़ अपने आर्टिकल, वेबसाइट को optimized करते हैं जिससे कि हमारा आर्टिकल ज्यादा से ज्यादा लोगो तक पहुंच सके, हमारे वेबसाइट में ज्यादा से ज्यादा ट्रैफिक आ सके ।


SEO की जरूरत क्यों हुई?

शुरुआती दौर में, जब कोई यूजर कोई keyword टाइप करके search engine में सर्च करता था तब उस exact keyword में जो आर्टिकल लिखा होता था । जो कंटेंट इंडेक्स होती थी बस वही कंटेंट यूजर को दिख पाता था । उस समय यूजर Relevant और quality कंटेंट को एक्सेस नहीं कर पाता था । उस समय इसी तरह से search engine का काम चल रहा था । 

आज के समय की बात करें तो आज तो किसी भी फील्ड के सारे content को हम आसानी से access कर पाते हैं । कोई भी keywords टाइप करने पर हमें उस keywords से relevant जितने भी सारे content है, quality content है उन्हें Google फिल्टर करके रिजल्ट्स show करता है । ताकि हमें क्वालिटी और relevant कंटेंट मिल सकें । जो पूरी तरह हमारे intent पर हो । और यह सब SEO की मदद से आसान हो सका है ।


SEO कितने तरह के होते हैं? ( Types of SEO )

ये मुख्य रूप से दो तरह के होते हैं-

On-page SEO

Off-page SEO

Technical SEO

इन तीनों SEOs को अगर आप सबसे आसान भाषा में समझना चाहें तो यह कुछ इस प्रकार है ।

On-Page SEO

यह आपके कंटेंट लिखने और वेबसाइट बनाने पर निर्भर करती है । वो सारे process जो आप अपने आर्टिकल में, अपने वेबसाइट में करते हैं जिससे की आपका आर्टिकल और वेबसाइट search engine और user के हिसाब से optimized हो सके, उसे on Page SEO कहा जाता है । इसमें वे सारे एलीमेंट, steps, process आते हैं जो कि आपके कंट्रोल में होती है जो रैंकिग में सहायक होती है । जैसे वेबसाइट की theme को डिजाइन करना, customised करना, SSL certificate, Meta tag, Meta description, images, keywords आदि ये वो सारे एलीमेंट हैं जो आपके मुताबिक़ होती है । 


Off-Page SEO

Off-Page SEO को अगर आप सबसे आसान तरीके से समझे तो इसका पूरा मलतब अपने ब्लॉग का प्रमोशन करना होता है । वो सारे process जिसको करने से आपका आर्टिकल और वेबसाइट में visitors आते हैं फ़िर चाहे वो Blog Commenting हो या फिर directory submissions, Guest post, video sharing, images sharing, ping आदि सारे चीजें Off-Page SEO के अंतर्गत आते हैं । 

इनके द्वारा हम अपनी वेबसाइट का बैकलिंक बनाते हैं जिससे ब्लॉग में traffic increase होता है । 


Technical SEO

यह On-Page और Off-Page SEO से relate नहीं करता है । यह मुख्य रूप से आपके वेबसाइट की एक तरह से progress को चेक करने के लिए यूज किया जाता हैं । Technical SEO में वेबसाइट की स्पीड, Spam चेक करना, audit, analysis, Alexa rank आदि चीजे आती है । 


SEO क्यों जरूरी है?

यह हमारे आर्टिकल/वेबसाइट को ज्यादा से ज्यादा लोगो तक पहुंचाने में मदद करता है। जिससे कि हमारे साइट पर यूजर्स की संख्या बढ़े और वेबसाइट की ट्रैफिक increase हो सके ।

इसके द्वारा हम अपने आर्टिकल, वेबसाइट को search engine के हिसाब से optimized करते हैं जो crawlable होती है । इससे हमारे आर्टिकल के SERP के टॉप में दिखने के chances काफ़ी बढ़ जाती है ।

ज्यादातर यूजर उन्हीं वेबसाइट्स के आर्टिकल को पढ़ना पसंद करते हैं जो search results पर सबसे पहले दिखाई पड़ता है । 

जो वेबसाइट्स/आर्टिकल SEO optimized नहीं होते हैं वे search engine results pages में कमजोर पड़ जाती है । जिसमें ज्यादा visitors नहीं जाते हैं । 

जब आप अपने आर्टिकल वेबसाइट के लिए SEO करते हैं तो वह तुरंत ही SERP में रैंक नहीं करता है इसमें समय लगता है । 

On-Page SEO कैसे करें?

नीचे कुछ on Page के पॉइंट्स दिए गए हैं जिसकी मदद से आप अपने आर्टिकल, वेबसाइट को search engine और यूजर के हिसाब से optimized कर सकते हैं । जो रैंकिग में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है ।

  1. सबसे पहले आप अपने वेबसाइट के लिए एक SEO friendly थीम लगाए जो responsive हो । जो किसी भी गैजेट्स चाहें वो मोबाइल, टैबलेट, लैपटॉप में आसानी से खुल सके । जिसका load टाइम बहुत कम हो ।
  2. अपने वेबसाइट में HTTPS का यूज करें । यह वेबसाइट की सिक्योरिटी के लिए होती है । अगर वेबसाइट में किसी भी तरह का लेन देन होता है तो वेबसाइट को SSL certificate लेने की आवश्यकता होती है ।
  3. हालांकि ब्लॉगर में यह facility free में provide की जाती है लेकिन अगर आपका वेबसाइट WordPress में है तब आपको इसे purchase करने की जरूरत पड़ती है ।
  4. आपकी वेबसाइट Google के bots/crawler द्वारा crawlable होनी चाहिए । जिससे Google को आपके वेबसाइट्स के कंटेंट को समझने में आसानी हो सके ।
  5. अपने वेबसाइट की navigation bar को इस तरह से डिजाइन करें कि कोई भी यूजर को आपके किसी भी पेज में जाने में परेशानी ना हो । पेजेस को एक्सेस करने में दिक्कत न आए । साथ ही यह Google के लिए भी जरूरी होता है । 
  6. अपनी आर्टिकल को शेयर करने के लिए website पर Facebook, LinkedIn, Twitter, Tumbler, WhatsApp, Instagram आदि शेयर बटन का use करें । जिससे कि आपका आर्टिकल ज्यादा से ज्यादा लोगो तक शेयर हो सके ।
  7. आपने आर्टिकल में images का use करें । जो copyright-free images हो । आप कॉपीराइट free images के लिए Pixabay, Pexels साइट्स पर जा सकते हैं । इनमे बहुत सारे कैटेगरी के images हैं जिनको आप अपने आर्टिकल में use कर सकते हैं ।
  8. जितना हो सके अपने images के साइज़ को कम ही रखें । इमेज को compress करके अपलोड करें । इससे वेबसाइट के जल्दी ओपन होने में मदद मिलती है ।
  9. आप अपने आर्टिकल के कंटेंट को यूनीक रखें । कहीं से भी copy paste ना करें । किसी भी वेबसाइट के कंटेंट को ट्रांसलेट करके अपने ब्लॉग में यूज ना करें ।
  10. कंटेंट को यूजर के इंटेंट के हिसाब से लिखें । जो यूजर को आसानी से समझ में आ सकें । अगर आप अपने आर्टिकल को यूजर के इंटेंट के हिसाब से लिखते हैं तो यूजर आपके आर्टिकल को ज्यादा पढ़ना पसंद करते हैं ।
  11. पहले पैराग्राफ की starting अपने main कीवर्ड से करें ।पैराग्राफ को छोटा ही रखें । एक पैराग्राफ को 4 से 5 lines में लिखें । इससे यूजर को पढ़ने में आसानी होती है ।
  12. अपने आर्टिकल के title में कीवर्ड का use करें । जितना हो सके long-tail कीवर्ड का use करें यह रैंकिग के लिए अच्छी मानी जाती है । Main कीवर्ड को Bold, Italic या Underline करें ।
  13. SEO friendly URL बनाए । इसमें अपने main कीवर्ड को यूज करें । आर्टिकल के URL को ज्यादा बड़ा ना रखें । कोशिश करें कि यह 60 characters के अंदर हो ।
  14. Search description में अपने आर्टिकल का एक summary लिखें । जिसमें आप अपने main कीवर्ड का use करें । 

ये वो सारे On-Page SEO के एलीमेंट/फैक्टर्स है जो किसी भी ब्लॉगर को आनी ही चाहिए । इस आर्टिकल में हमनें सिर्फ उन्हीं फैक्टर्स के बारे में बताया है जो कि Google के algorithm का बेस है । जो 4, 5 सालों से constant हैं ।

हालांकि हर साल Google अपने algorithm को अपडेट करते रहता है । नए नए changes करते रहता है । Google के 200 algorithms फैक्टर्स हैं जो कि वेबसाइट्स और आर्टिकल को crawl करते हैं और वेबसाइट्स की रैंकिग डिसाइड करते हैं कि किस वेबसाइट को SERP में सबसे पहले और किसे बाद में रखना है ।  जिससे कि यूजर को बेहतर रिजल्ट्स मिल सकें । 

इन्ही सारी बातों को ध्यान में रखकर हमने कुछ ही एलीमेंट को आपके साथ साझा किया है जो ज्यादा change नहीं होते हैं । जो बेसिक है ।


निष्कर्ष

SEO एक ongoing प्रोसेस है जिसकी मदद से हम अपने आर्टिकल को search engine के मुताबिक़ optimized करते हैं जिससे कि हमारा आर्टिकल रैंक हो सके । 

Google के algorithm समय के साथ change होते रहते हैं । अगर आप SEO में updated रहना चाहते हैं तो इन algorithm के अपडेट्स पर ध्यान दें । 

इस आर्टिकल के संदर्भ में अगर आपको कोई राय देनी हो कोई सुझाव देनी हो तो आप हमें कमेंट कर सकते हैं हमें ख़ुशी होगी । 

धन्यवाद


एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ