Copywriting क्या है और digital marketing में क्यों जरूरी है

अगर आप Digital Marketing सीख रहें हैं तो आपने कभी न कभी copywriting के बारे में जरूर सुना होगा । हालांकि अभी भी इसे बहुत से लोग इसके बारे में नहीं जानते हैं ।

कई बार आपने यह देखा होगा कि जब हमें किसी चीज के बारे में जानकारी प्राप्त करनी होती है तो हम सामान्य रूप से Google में अपना keyword टाइप कर सर्च करते हैं ।

सर्च करने पर हमें गूगल हमारे कीवर्ड के अनुसार रिजल्ट्स देता है । पर क्या हम सभी रिजल्ट्स/आर्टिकल्स को पढ़ते हैं? नहीं हम सिर्फ उन्हीं आर्टिकल्स को पढ़ना पसंद करते हैं जिसमें टाइटल और डिस्क्रिप्शन हमे ज्यादा आकर्षित लगते हैं । सिर्फ़ उन्हीं को हम पहले पढ़ना पसंद करते हैं । 

ये copywriting की मदद से होता है जिसमें कुछ इस तरह के वर्ड्स और content लिखें जाते हैं और प्रभावी तरीके से यूज किए हुए होते हैं । जिसे देख और पढ़ कर यूजर्स को आर्टिकल पढ़ने की इच्छा होती है ।

Copywriting kya hai

इस आर्टिकल में हम copywriting क्या है और digital marketing में क्यों जरूरी है? के बारे में जानेंगे जो डिजिटल मार्केटिंग में हमें लगभग हर जगह पर इसकी जरुरत होती है । इसे हम या तो खुद से करते हैं या फिर कोई copywriter को हम hire करते हैं जो हमारे प्रोडक्ट्स और सर्विसेस के लिए कॉपी राइटिंग करें ।


Copywriting क्या है? ( Copywriting in Hindi )

Copywriting एक skill है जिसकी मदद से हम यूजर्स को अपने किसी प्रोडक्ट या सर्विसेस के बारे में जानकारी लिख, यूजर्स को अपनी ओर आकर्षित करने की कोशिश करते हैं । आप इसे ऐसे समझ सकते हैं कि यह एक शब्दों का खेल है जो पूर्ण रूप से यूजर्स को अपनी तरफ आकर्षित करने के लिए किया जाता है ।

इसे हम एक उदाहरण से समझते हैं । फेसबुक पर आए दिन किसी न किसी प्रोडक्ट और सर्विसेस की प्रमोशन के लिए ads चलाए जाते हैं । जिनमें अधिकतर ads किसी गैजेट्स जैसे mobile, TV, laptop और भी बहुत सी चीजों के लिए चलाएं जाते हैं ।

अगर दो तरह के ads चलाए जा रहे हैं जो क्रमशः ads1 और ads2 है । दोनों ही मोबाइल के ads हैं और दोनो ads के टाइटल और डिस्क्रिप्शन काफी अच्छे तरीके से लिखें हुए हैं जो यूजर्स को बहुत ही ज्यादा अट्रैक्ट कर रही है ।

चूंकि दोनो ही ads किसी मोबाईल का प्रोमोशन कर रही है और दोनो ही यूजर्स को attract करने में सक्षम है । यूजर्स दोनों ही तरह के ads पर क्लिक कर उसके बारे में और अधिक जानकारी प्राप्त करने की कोशिश करेगा और क्लिक करके वह उस ads के homepage पर पहुंच जाएगा ।

ads1 पर click करने पर यूजर्स को बहुत ही अच्छे content और एलीमेंट्स जैसे mobile के फीचर्स, क्वालिटी, कैमरा, स्टोरेज आदि सभी के बारे में बहुत ही अच्छे तरीके से बताया गया है और यूजर्स को convince करने के उद्देश्य से लिखा गया है और यूजर इससे convince भी हो रहे हैं । तब यूजर्स सामान्यता इस mobile को खरीदने के बारे में सोचेगा और इस वेबसाइट से खरीद भी लेगा ।

वहीं ads2 की बात करें तो इसमें भी mobile की जानकारी दी हुई है पर यह यूजर्स को mobile को खरीदने जितना convince नहीं कर पा रही है तो जरूर ही यूजर्स इस वेबसाइट से mobile न खरीद कर ads1 वाले वेबसाइट से ही खरीदेगा ।

अगर आप इसे सबसे आसान शब्दों से समझे तो copywriting में हम उस तरह के वर्ड्स के content लिखते हैं जो यूजर्स को पूरी तरह से हमारे प्रोडक्ट्स और सर्विसेस को जानने और उसे खरीदने के उद्देश्य से convince किया जाता है ।

ध्यान रहे copywriting टाइटल, डिस्क्रिप्शन के साथ साथ आर्टिकल के कंटेंट में भी यूज की जानी चाहिए । अगर हमारा टाइटल और डिस्क्रिप्शन यूजर्स को attract कर रहा है तो हमें अपने कंटेंट को भी यूजर्स के लिए attractive बनानी चाहिए जिससे यूजर हमारी तरफ आकर्षित हो सके ।

बहुत से लोग प्रायः copywriting और content writing को एक जैसा ही समझते हैं । और ये सही भी है क्योंकि ये आपस में लगभग एक जैसे ही लगते हैं । लेकिन इन दोनों में कुछ differences है जिसके बारे में आगे बताया गया है ।


Copywriting और Content Writing में क्या अंतर है?

सबसे पहले बात करते हैं content writing की आखिर ये कॉपी राइटिंग से किस तरह से अलग है ।

Content Writing

  1. Content writing में हमारा पूरा फोकस अपनी वेबसाइट पर ट्रैफिक लाने की होती है साथ ही साथ इसमें उस ट्रैफिक को retain करने की भी जरूरत होती है ।
  2. Content writing में हमारा मुख्य उद्देश्य हमारे यूजर्स जो हमारे आर्टिकल को पढ़ते हैं उन्हें अपनी राइटिंग skill की मदद से कुछ वैल्यू प्रोवाइड करने की होती है ।
  3. इसमें हम इस बात का ध्यान रखते हैं कि जो भी यूजर हमारे आर्टिकल को पढ़ रहा है उसे हमारे आर्टिकल द्वारा कुछ न कुछ अच्छी जानकारी प्राप्त हो । 
  4. इसमें हम यूजर्स को जानकारी देने के साथ ही साथ उन्हे educate करते हैं ।


Copywriting

  1. अगर बात करें copywriting की तो ये content writing के ट्रैफिक को buyers/customers में convert करने के उद्देश्य से लिखा और बनाया जाता है ।
  2. इसमें यूजर्स द्वारा हमारे प्रोडक्ट्स और सर्विसेस की जानकारी के साथ ही उन्हें हमारी साइट से purchase करने के लिए convince किया जाता है । 
  3. ये पूरी तरह से यूजर्स को हमारी तरफ आकर्षित करने के उद्देश्य से किया जाता है ।
  4. ये sales को बढ़ावा देने के लिए लिखा जाता है । 


निष्कर्ष

Copywriting एक टेक्नीक या यूं कहें एक skill है जिसकी मदद से हम content के वर्ड्स को कुछ इस तरह से लिखते हैं, यूज करते हैं जो यूजर्स को हमारे किसी भी तरह के प्रोडक्ट्स या फिर सर्विसेस की तरफ आकर्षित करे और यूजर्स उन्हें purchase करे, के उद्देश्य से लिखा जाता है ।

प्रायः इसके लिए कंपनियां copywriter को hire करती है जो उनके प्रोडक्ट्स और सर्विसेस के लिए copywriting का काम करें । आने वाले समय में इसमें जॉब्स की भी काफ़ी अच्छी opportunities होने वाली है और साथ ही कॉपीराइटर की भी अच्छी खासी डिमांड होने वाली है ।

अगर आप इसके भविष्य की बात करें तो जिस प्रकार से copywriting को इतना ज्यादा महत्व दिया जा रहा है उस हिसाब से यह आने वाले समय में digital marketing में यह बहुत ज्यादा important समझा जाएगा । 

अगर आपको इस आर्टिकल को पढ़कर अच्छी जानकारी प्राप्त हुई हो, आपको यह आर्टिकल पसंद आया हो या फिर आप इस पोस्ट के बारे में कुछ भी किसी भी तरह के सुझाव देना चाहते हैं तो आप हमें नीचे कमेंट में लिख कर दे सकते हैं ।

धन्यवाद


एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ