Keyword क्या है और Blog में कैसे यूज करें

अगर आप एक ब्लॉगर हैं या Blogging के क्षेत्र में नए हैं, तो आपने keywords का नाम जरूर सुना होगा। एक अच्छा ब्लॉगर बनने के लिए keywords की अच्छी खासी जानकारी होना जरूरी है। इस आर्टिकल में आप जानेंगे की कीवर्ड क्या है, कीवर्ड कितने तरह के होते हैं, कीवर्ड placement कैसे करें, density क्या है? आदि। इन सभी सवालों के जवाब इस आर्टिकल में दिया गया है।

Keyword kya hai aur blog mein use kaise karein


Keyword क्या है?

Keyword का शाब्दिक अर्थ Phrase या sentence होता है। यह एक वाक्य का अंश, या एक पूरा वाक्य ( sentence ) होता है। जैसे - अगर आप ब्लॉगर बनाना चाहते हैं तो आप Google या अन्य किसी Search engine में सर्च करेंगे कि "blogging क्या है", "blogging से पैसे कैसे कमाएं" या "blogging कैसे किया जाता है" ये सारे keywords कहलाते हैं। और Search करने पर जो result आता है वह SERPs ( Search Engine Results Pages ) कहलाता है।

कीवर्ड आर्टिकल को लिखने में use किया जाता है। आर्टिकल के title में keywords का इस्तेमाल करके आर्टिकल/पोस्ट को describe किया जाता है कि यह किस विषय में लिखा गया है। 


Keyword कितने तरह के होते हैं? 

Keywords मुख्यतः दो प्रकार के होते हैं-

  1. Short Tail Keywords
  2. Long Tail Keywords

इनके अलावा भी कई तरह-तरह के keywords होते हैं जो search engine में समय - समय पर ट्रेंड करते रहते हैं। कुछ तो ऐसे होते हैं जो हमेशा search engine की टॉप में बने हुए रहते हैं। तो कुछ कीवर्ड को यूजर्स सबसे ज्यादा सर्च करते हैं। ये मुख्य रूप से Short tail और Long-tail keywords में ही आते हैं। सभी तरह के कीवर्ड के बारे में नीचे बताया गया है।


Short Tail Keywords

ये बहुत छोटे होते हैं। यह एक या तीन words के होते हैं। इसलिए इसे short tail keywords कहा जाता है। जैसे - blogging, SEO, make money online, backlinks आदि। ये मुख्य रूप से तीन words के, दो या एक word के होते ही हैं।


Long Tail Keywords

ये short tail keywords से बड़े होते हैं। ये तीन से ज्यादा words के होते हैं। जैसे - online पैसे कैसे कमाएं, YouTube से पैसे कैसे कमाएं, backlinks क्या होते हैं और कैसे बनाते हैं आदि। ये सारे Long tail keywords कहलाते हैं। ये एक वाक्य ( sentence ) के जैसे होते हैं।


Fresh keywords

ये वो trending कीवर्ड होते हैं जो recent time में सबसे ज्यादा search किए जाते हैं। Social media में आए दिन कुछ ना कुछ कीवर्ड trend करते रहता है। जिसकी search volume बहुत ज्यादा होती है और कुछ समय बाद search engine में न के बराबर search की जाती है। जैसे - Me Too


Evergreen keywords

ये वो कीवर्ड होते हैं जो हमेशा ही search engine में सर्च की जाती है। जैसे online पैसे कैसे कमाएं, ये एक ऐसा keyword है जो Google में किसी time frame में सबसे ज्यादा बार सर्च की जाती है। भले ही कुछ समय बाद इनकी search volume कम हो जाए पर ये कीवर्ड हमेशा ही Search engines की searching लिस्ट में बनी रहती है। इसलिए इसे evergreen keywords कहते हैं।


Product defining keywords

ऐसे words जो किसी product को डिफाइन करने के लिए use की जाती है। जैसे Addidas shoes, apple watches आदि। ये किसी कंपनी के product को डिफाइन करने के लिए use किए जाते है। इसलिए ये product defining keywords कहलाते हैं।


Customer defining keywords

जिस तरह product defining कीवर्ड product को डिफाइन करते हैं। उसी तरह customer defining keywords customer की intent ( चाहत ) को डिफाइन करते हैं। जैसे addidas shoes for women, watches for men आदि। ये keywords customer की चाहत, उनकी इच्छा को बताता है कि उन्हें product किस कंपनी का और किसके लिए चाहिए। 


Geo targeting keywords

जिन कीवर्ड में किसी जगह ( Location, Area ) का ज़िक्र होता है। वो geo targeting कीवर्ड कहलाते हैं।

जैसे best IIT colleges in Delhi, website developer company in Jodhpur आदि। ये कीवर्ड location पर based होते हैं।


LSI keywords ( Latent Semantic Indexing )

ये आपके main कीवर्ड से relate करता है। ये आपके द्वारा लिखे गए content और उस content में use किए गए कीवर्ड के बीच में relationship का पता लगाने के लिए use किया जाता है। जैसे अगर आप blogging के बारे में article लिख रहे हो तो Google के bots crawl करते समय आपके article में blogging से मिलते जुलते keywords - blogging कैसे करते हैं, blog कैसे बनाते हैं, blog कैसे start करें आदि words को ढूंढेगा। मिलते जुलते कीवर्ड के साथ article ना मिलने पर Google या कोई अन्य search engine आपके द्वारा लिखे गए आर्टिकल को अच्छी रैंकिग नहीं देगा और आपका आर्टिकल SERPs में रैंक नहीं कर पाएगी।

इसलिए बेहतर है कि आप जिस भी कीवर्ड में अपना आर्टिकल लिख रहे हैं उस keywords से मिलते जुलते कीवर्ड को अपने आर्टिकल में जरूर use करें। इससे अपके आर्टिकल की रैंकिंग अच्छी होगी। short tail और long tail कीवर्ड का use करें। लेकिन आपका focus आपके main कीवर्ड में ही होनी चाहिए।


Keywords placement कैसे करें?

Keywords placement आपके द्वारा लिखे गए आर्टिकल को SEO friendly बनाने में बहुत मदद करती है। नीचे कुछ पॉइंट्स दिए गए हैं। जिसकी मदद से आप अपने आर्टिकल को SEO friendly बना सकते हैं।

  • अपने आर्टिकल के title में use करें
  • पहले paragraph की starting main कीवर्ड से करें
  • Image के Alt text में
  • Heading में ( H1, H2, H3.. में )
  • Search description में
  • अपने आर्टिकल के permalink में ( ब्लॉग के URL में )

आप चाहे तो आपने keywords को Bold, Italic और Underline भी कर सकते हैं। पर ध्यान रहे कि आपको जरूरत से ज्यादा कीवर्ड को use नहीं करना है। इससे stuffing हो जाती है। आप अपने आर्टिकल/ब्लॉग में कीवर्ड density का पूरा ध्यान रखें।


Keywords density क्या है?

आपके पूरे आर्टिकल के text की तुलना में आपका main कीवर्ड जितनी बार use किया जाता है, के अनुपात को keywords density कहते हैं। जैसे अगर आपने 1000 words में अपना आर्टिकल लिखा है जिसमें आपने अपना कीवर्ड 10 बार use किया है तो कीवर्ड density 1% हुई। 

सामान्यतः एक SEO friendly आर्टिकल के लिए keyword density 2% सबसे अच्छी मानी जाती है। आप अपने आर्टिकल में 1% या 2% कीवर्ड density रखने की कोशिश करें। 


निष्कर्ष

Keywords आर्टिकल को SEO friendly बनाने में काफ़ी मदद करता है। जिससे कि आपका आर्टिकल यूजर friendly लगता है। कीवर्ड placement, short tail, long tail keywords की सही जानकारी आपके website के साथ - साथ आपके आर्टिकल को SERPs में काफ़ी अच्छी रैंकिग देने में मदद करता है। साथ ही इससे अपके blog पर visitors की संख्या भी बढ़ती है।

हमें उम्मीद है कि इस आर्टिकल में आपको keywords की अच्छी जानकारी मिली होगी। अगर आपको हमारा post पसंद आया हो या इस पोस्ट के बारे में कोई सुझाव हो। तो आप हमें comment कर सकते हैं, हमें ख़ुशी होगी।

धन्यवाद 


एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ